logo
शनि आने वाले है कुम्भ राशि में ,इन राशियों पर शुरू होने वाली है शनि की साढ़े साती
 

नए साल 2000 की शुरुआत होने वाली है ज्योतिषशास्त्र के अनुसार हर महीने ग्रहो  की राशि परिवर्तन होता है कुछ ग्रह कम समय में तो कुछ लंबे समय में एक राशि से दूसरी राशि में गोचर करते है। 

io

 सभी नौ ग्रह में शनि ग्रह का राशि परिवर्तन सबसे अहम माना जाता है सनी जब भी एक राशि से दूसरी राशि में आते हैं तो किसी राशि पर शनि की साढ़ेसाती शुरू होती है तो किसी पर साढ़ेसाती  खत्म हो जाती है शनि की साढ़ेसाती व्यक्ति के जीवन में कई तरह की परेशानियां लगती है यही कारण है कि शनि का नाम आते ही लोग घबरा जाते हैं। 

io

शनि 29 अप्रैल 2022 को मकर से निकलकर कुंभ राशि में प्रवेश करने वाले हैं इसके बाद 5 जून 2022 को वक्री चाल से चलने के कारण दोबारा से मकर राशि में प्रवेश कर जाएंगे शनि की यह उल्टी चाल  4 जनवरी 2023 तक होगी शनि  साल 2021 में मकर राशि में विराजमान है जिस वजह से धनु मकर और कुंभ राशि पर शनि की साढ़ेसाती चल रही है अब 29 अप्रैल 2022 को शनि मकर राशि से निकलकर कुंभ राशि में प्रवेश करेंगे जिस कारण से मीन राशि पर शनि की साढ़ेसाती शुरू हो जाएगी। 

io

इस राशि पर साढ़ेसाती 17 अप्रैल 2030 तक रहेगी शनि के राशि परिवर्तन से धनु राशि के जातक शनि की साढ़ेसाती से मुक्त हो जाएंगे और मीन राशि पर शनि की साढ़ेसाती का पहला चरण ,कुंभ राशि पर दूसरा और मकर राशि पर आखिरी चरण होगा कर्क और वृश्चिक राशि पर शनि की ढैया शुरू हो जाएगी जबकि मिथुन और तुला राशि वालों पर चल रही है ढैय्या  समाप्त हो जाएगी।