logo
BD Special:गलती एक बार होती है दो बार होती है तीसरी बार इरादा होता है - अमरीश पुरी - बेस्ट डायलॉग
 

अपने जमाने के बेहतरीन अभिनेता रहे अमरीश पुरी ने विलेन बनकर लोगों का दिल जीता।  वह आज इस दुनिया में नहीं हैं, लेकिन लोगों के दिलों में उनके लिए एक खास जगह है। अमरीश पुरी का जन्म 22 जून 1932 को हुआ था और वह इंडस्ट्री के सुपरहिट विलेन रह चुके हैं। आज उनके जन्मदिन पर हम आपको बताने जा रहे हैं उनके वो सुपरहिट डायलॉग जो आपने जरूर सुने होंगे। 

अमरीश पुरी का सुपरहिट डायलॉग-
 
*जा सिमरन जी ले अपने उनसे की जिंदगी फिल्म - दिलावाले दुल्हनिया ले जाएंगे।

*जो जिंदगी मुझसे टकराती है वो सिसक सिसक कर दम तोड़ती है। फिल्म - घायल।

* ये दौलत भी क्या चीज है, जिसके पास जितनी भी आती है कम ही लगती है - दीवाना।

*आदमी के पास दिमाग हो तो वह अपना दर्द भी बेच सकता है- एतराज।

* मैं तो समझता था कि दुनिया में मुझसे बड़ा कमीना कोई नहीं है, लेकिन तुमने ऐन मौके पर ऐसा कमीनापन दिखाया कि हम तुम्हारे कमीनेपन के ही गुलाम हो गए- करण अर्जुन।

* मोगैम्बो खुश हुआ - मिस्टर इंडिया।

*ऐसी मौत मारूंगा इस कमीने को कि भगवान यह पुर्नजन्म वाला सिस्टम ही खत्म कर देंगे- करण अर्जुन।

* तबादलों से इलाके बदलते हैं, इरादे नहीं - गर्व।

* टिप बाद में देना तो एक रिवाज है, पहले देना अच्छी सर्विस की गारंटी है -शहंशाह।

*  ये अदालत है कोई मंदिर या कोई दरगाह नहीं जहां, मन्नतें और मुरादें पूरी होते है। यहां धूप बत्ती और नारियल नहीं बल्कि ठोस  सबूत और गवाह पेश किए जाते हैं- फिल्म दामिनी।

* धंधे और करियर के बारे में भाई भाई से जल सकता है - राम लखन।

* जिंदगी में भी वीसीआर की तरह रिवाइंड बटन होता तो कितना अच्छा होता - नायक दा रियाल हीरो।

* घास और दुशमनी कही भी और कभी भी पैदा हो सकता हैं -: कोयला।

* जहा मेरी आवाज़ पहुँच सकती हैं, वहा मेरी गोली भी पहुँच सकती हैं -  फूल और कांटे।

* बच्चा माँ की कोख में बाद में पनपता हैं हमारा गुलाम पहले बन जाता हैं - कोयला।

* जिस दिन मैं कोई गोरी तितली देख लेता हु हूँ ना मेरे खून में सैकड़ों काले कुत्ते एक साथ भौंकने लगते हैं - शहंशाह।

* अजगर किसे, कब और कहा निगल जाता हैं ये तो मरने वाले को भी पता नहीं चलता- विश्‍वात्‍मा।

* पैसो के मामले में मैं पैदाइशी कमीना हु दोस्ती और दुशमनी का क्या?अपनो का खून भी पानी की तरह बहा देता हु - करण-अर्जुन।

* सांप के बिल में घुसकर जहरीले फनो से दुशमनी नहीं लेते वरना खून के साथ ज़हर भी दिल में घुस जायेगा -दादागीरी।

* हमारा रास्ता काटने  वाली कोई भी बिल्ली जिंदा नहीं रहती- इलाका।