logo
Celebs Gossip :शूटिंग के दौरान बाल-बाल बचे थे यह अभिनेता, लोगों को लगा कि ये सिर्फ अभिनय कर रहा है
 

11 सितंबर 1965 को जन्मे विश्वजीत प्रधान ने न केवल फिल्मों में बल्कि टेलीविजन जगत में भी अपनी काबिलियत साबित की है। विश्वजीत को अक्सर पुलिस इंस्पेक्टर या कमिश्नर के रोल में देखा जाता है।

[[

विश्वजीत ने अपने करियर की शुरुआत 1988 में दूरदर्शन पर प्रसारित होने वाले सीरियल 'फौजी' से की थी। इस सीरियल से शाहरुख खान ने भी डेब्यू किया था। यहीं से विश्वजीत के लिए फिल्मों और टेलीविजन सीरियल्स के दरवाजे खुल गए। विश्वजीत की मुख्य फिल्में 'राज', 'करम', 'यलगार', 'जख्म', 'नो प्रॉब्लम' और 'जहर' हैं। टेलीविजन धारावाहिक 'मर्यादा: लेकिन कब तक?' फिल्म में पुलिस इंस्पेक्टर ब्रह्मानंद झाकर की भूमिका निभाकर विश्वजीत हिट हो गए थे। इसके अलावा वह टेलीविजन शो 'एक बूंद इश्क' में भी नजर आ चुके हैं। लगभग 30 साल के करियर में विश्वजीत ने 200 से ज्यादा फिल्मों में काम किया है।

pp

अगर पर्सनल लाइफ की बात करें तो विश्वजीत की शादी फैशन डिजाइनर सोनालिका प्रधान से हुई है। सोनालिका एक निर्माता भी हैं और वह फैशन ब्रांड विटामिन की मालिक हैं। विश्वजीत और सोनालिका के दो बच्चे हैं, बेटी ध्रुविका और बेटा ओजस। फिल्मों से ब्रेक लेकर विश्वजीत ने कई सालों तक ऑस्ट्रेलिया में अपनी पत्नी का बिजनेस किया। बाद में वह फिर से मुंबई लौट आए। 

एक बार फिल्म की शूटिंग के दौरान विश्वजीत का बड़ा एक्सीडेंट हो गया था। फिल्म 'नो प्रॉब्लम' के सेट पर आग लग गई। फिल्म के एक्शन सीक्वेंस की शूटिंग बीच में की जा रही थी। इस सीन में विश्वजीत खुद को आग से बचाने की कोशिश कर रहे थे। सेट में आग लगी तो उनके पैर में चोट लग गई, सभी को लगा कि वह एक्टिंग कर रहे हैं। कुछ देर बाद वहां मौजूद लोगों को लगा कि वे वाकई किसी हादसे का शिकार हो गए हैं, तो तुरंत आग बुझाई गई और विश्वजीत को चिकित्सा सेवाएं दी गईं। इस हादसे में विश्वजीत बाल-बाल बचे थे ।