logo
Ayurveda Tips : ब्राह्मी के सेवन से मिलेगी तेज याददाश्त, तनाव में राहत और मजबूत दिमाग
 

आयुर्वेद की दुनिया की याददाश्त बढ़ाने वाली दवाओं में भी ब्राह्मी का नाम शामिल है। इसे ब्राह्मी बूटी भी कहते हैं। वहीं इसे कई नामों से जाना जाता है जैसे- सफेद चमनी, सौमलता, नीरब्राह्मी, जलाब्राह्मी और जलवरी आदि। इसी के साथ इसका वैज्ञानिक नाम बकोपा मोननेरी है। आपको बता दें कि ब्राह्मी बुद्धि होने के साथ-साथ पित्त को दबाती है, शीतलता प्रदान करती है, शरीर से विषैले तत्वों को दूर करती है, कफ में लाभकारी, रक्त शोधन में सहायक, चर्म रोगों में लाभकारी और हृदय की दुर्बलता में लाभकारी है। उपयोगी है। अब हम आपको इसके सेवन के फायदे बताते हैं।

dd

हाई ब्लड प्रेशर में इसके रस और शहद का सेवन फायदेमंद होता है।
 
स्मरण शक्ति बढ़ाने के लिए ब्राह्मी चूर्ण, काली मिर्च, बादाम की गिरी का मिश्रण सुबह-शाम सेवन करना चाहिए।

अगर आपको शरीर में जलन महसूस हो रही है तो इसका पाउडर और धनिया रात को पानी में भिगो दें। सुबह शौचालय से निवृत्त होकर इस मिश्रण को खूब मथें और छानकर पी लें।

इसके रस में मिश्री मिलाकर पीने से पेशाब के रोग, रुक-रुक कर पेशाब आना, पेशाब में जलन आदि में लाभ होता है।

cc

अगर नींद ठीक से नहीं आती है तो इसके चूर्ण को गाय के दूध के साथ लेने से लाभ होता है।

गंजेपन और बालों के झड़ने से पीड़ित लोगों को इसके चूर्ण का एक महीने तक नियमित सेवन करना चाहिए, लाभ होगा।

नोट- अगर आप ब्राह्मी का सेवन करने जा रहे हैं तो सबसे पहले अपने डॉक्टर से सलाह लें।