logo
Child Care Tips- बच्चे के हो गई गले में खराश और बुखार, तो इसे हल्के में ना लें, तुरंत करें इलाज
 

दोस्तो देश में गुलाबी सर्दी हो रही हैं और यह सर्दी आपके स्वास्थ्य के लिए बहुत ही हानिकारक हैं, क्योंकि इसमें आपको आसानी से सर्दी, खासी, झुकाम, बुखार जैसी समस्याएं हो जाती हैं, इस समय बच्चों का खास ख्याल रखना पड़ता हैं, अगर आपके बच्चे इन बीमारियों से कई दिनों से ग्रसित हैं और दवाईयां लेने पर भी सही नहीं हो रहे हैं, तो यह चिंता का विषय हैं क्योंकि उन्हें रेस्पिरेटरी सिन्सिटियल वायरस डिजीज यानी आरएसवी वायरस का खतरा हो सकता हैं, जो 5 साल से कम उम्र के बच्चों में फेल रहा हैँ।

रेस्पिरेटरी सिन्सिटियल वायरस डिजीज के कारण 2019 में ब्रिटेन में 1 लाख से ज्यादा बच्चों की मौत हो गई हैँ और अब इसने भारत में भी दस्तक दे दी हैँ, रिपोर्ट्स के मुताबिक जो बच्चे बोतल से दूध पीते हैं उन्हें इस वायरस का खतरा अधिक होता है।

Child Care Tips-  बच्चे के हो गई गले में खराश और बुखार, तो इसे हल्के में ना लें, तुरंत करें इलाज

आरएसवी वायरस क्या है?

यह एक प्रकार का श्वसन संक्रमण है। 5 साल के बच्चे इससे पीड़ित होते हैं, बच्चों में इसके कारण निमोनिया और ब्रोंकियोलाइटिस जैसी बीमारियां उत्पन्न हो जाती हैँ। यदि वायरस का संक्रमण खतरे के स्तर से अधिक हो जाता है, तो रोगी की मृत्यु का भी भय रहता है।

इस संक्रमण के कारण

- फेफड़े के विकार

- कैंसर, कीमोथेरेपी

- कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली

- जोड़ों की असंभवता

Child Care Tips-  बच्चे के हो गई गले में खराश और बुखार, तो इसे हल्के में ना लें, तुरंत करें इलाज

RSV के लक्षण

- खांसी, बुखार, सर्दी

- गले में खराश, सांस लेने में तकलीफ

- सिरदर्द

- त्वचा के रंग में परिवर्तन