logo
Death Anniversary Of Jhansi Ki Rani Lakshmi Bai: चतुर और सुंदर महिला' होने के साथ-साथ योद्धा 'भी थीं रानी लक्ष्मीबाई
 

काशी की मणिकर्णिका मनु उर्फ ​​महारानी लक्ष्मीबाई का नाम 1857 की क्रांति की महानतम नायिका के रूप में देश की आजादी के दस्तावेजों में उल्लेखनीय है। जिन्होंने मात्र 30 वर्ष की आयु में ही अंग्रेजों के रियासतों पर कब्जा करने की कुटिल साजिश के कारण शहादत दे दी थी, लेकिन अपने राज्य को अंग्रेजों के कब्जे से रोक दिया था। वहीं, आज यानी 18 जून को उनकी पुण्यतिथि है।

भारतीय इतिहास में अपनी सुंदरता, शौर्य और साहस की प्रतीक रानी लक्ष्मीबाई को न केवल महिलाओं के लिए बल्कि पुरुषों के लिए भी प्रेरणा का स्रोत कहा जाता है। रानी लक्ष्मीबाई का जन्म 19 नवंबर 1828 को यूपी (तत्कालीन संयुक्त प्रांत) के वाराणसी (तत्कालीन काशी) में एक ब्राह्मण परिवार में हुआ था। बचपन में उनका नाम मणिकर्णिका तांबे रखा गया था, उन्हें प्यार से मनु भी कहा जाता था।

cc
 
पिता मोरोपंत तांबे पेशवा बाजीराव द्वितीय के दरबार में कार्यरत थे, जबकि मां भागीरथी बाई एक संस्कारी, बुद्धिमान और धर्मपरायण महिला थीं, लेकिन मनु बहुत छोटी थीं जब उनकी मां ने दुनिया को अलविदा कह दिया। घर में अकेला रहकर मोरोपंत मनु को प्रतिदिन अपने साथ पेशवा के दरबार में ले जाने लगा। पेशवा दरबार में ही लड़कों के बीच पली-बढ़ी मनु बचपन में ही मार्शल आर्ट, तलवारबाजी, घुड़सवारी आदि में पारंगत हो गई थी।

cc

मौत भी है चर्चा का विषय आपको बता दें कि लक्ष्मीबाई ग्वालियर में ब्रिटिश सेना से लड़ते हुए शहीद हो चुकी हैं, लेकिन उनकी मौत को लेकर अभी भी इतिहासकारों में भ्रम की स्थिति है। कुछ इतिहासकारों के अनुसार युद्ध के दौरान एक सैनिक की गोली लगने से लक्ष्मीबाई की जान चली गई, जबकि कुछ इतिहासकारों का कहना है कि रानी लक्ष्मीबाई की मृत्यु ब्रिटिश सेना के एक वरिष्ठ अधिकारी कैप्टन हूरोज़ की तलवार से हुई थी, यह वही हुरोज़ थी, जो लक्ष्मीबाई को पहली बार देखने के बाद उन्हें 'चतुर और सुंदर महिला' भी कहा जाता है, रानी की मृत्यु के बाद कैप्टन हूरोस ने रानी लक्ष्मीबाई को प्रणाम किया। रानी लक्ष्मी बाई की पुण्यतिथि पर हम उन्हें श्रद्धांजलि देते हैं।