logo
Health tips : क्या एंकिलोज़िंग स्पॉन्डिलाइटिस पुरुष प्रजनन क्षमता को प्रभावित करता है? जानिए !
 

अगर आपको एंकिलोज़िंग स्पॉन्डिलाइटिस का निदान किया गया है, तो आपके मन में बहुत सारे प्रश्नघूम रहे हैं। मगर, क्या आप पुरुषों की प्रजनन क्षमता पर एंकिलोसिंग स्पॉन्डिलाइटिस के प्रभाव के बारेमें जानते हैं? यह स्थिति आमतौर पर 17-45 वर्ष के आयु वर्ग को प्रभावित करती है। यदि आपको कोईविरासत में मिली कोई बीमारी है तो यह तनाव और दुविधा का कारण बन जाती है।

f

क्या स्पॉन्डिलाइटिस पुरुषों में प्रजनन क्षमता को प्रभावित कर सकता है?
आपकी जानकारी के लिए बता दे की, एएस और इसके लक्षणों के इलाज के लिए इस्तेमाल की जानेवाली दवाएं शुक्राणुओं की संख्या को कम करके आपकी प्रजनन क्षमता को प्रभावित कर सकती हैं। मगर ऐसा तब होता है जब दवाएं अधिक समय तक ली जाती हैं। शुक्राणुओं की संख्या में सुधार होना चाहिए।शुक्राणु की गुणवत्ता पर एएस के प्रभाव या विरोधी भड़काऊ दवाओं के साथ इसके उपचार का कोई सबूत नहीं है।एंकिलोज़िंग स्पॉन्डिलाइटिस क्या है?


बता दे की, एएस एक प्रणालीगत सूजन संबंधी आमवाती रोग है जो रीढ़, श्रोणि और फिर अन्य जोड़ों,जैसे कूल्हों, घुटनों, पैरों और कंधों में दर्द और जकड़न का कारण बनता है। यह असामान्य हड्डी केविकास का कारण बनता है, और जोड़ों को रीढ़ में और sacroiliac जोड़ों (प्रत्येक कूल्हे और श्रोणि केबीच स्थित) में फ्यूज (एक साथ बढ़ने) का कारण बनता है।Ankylosing स्पॉन्डिलाइटिस के कारणयह आनुवंशिक, पर्यावरणीय और प्रतिरक्षात्मक कारकों से प्रभावित होता है। एएस के विकास के जोखिमका लगभग 90% आनुवंशिक मेकअप से संबंधित है।

f

एंकिलोज़िंग स्पॉन्डिलाइटिस के लक्षण
पीठ के निचले हिस्से में दर्द और अकड़न के साथ बारी-बारी से कूल्हे का दर्द
दर्द आमतौर पर रात या सुबह जल्दी होता है और यह गतिविधि से कम हो जाता है
मांसपेशी में ऐंठन
थकान
एंथेसाइटिस
वजन घटना
हल्का बुखार

पुरुष प्रजनन क्षमताआपकी जानकारी के लिए बता दे की, वर्तमान में इस बीमारी का कोई इलाज नहीं है लेकिन दवाओं और शारीरिक गतिविधि से रोगसूचक राहत प्राप्त की जा सकती है। व्यायाम जोड़ों के दर्द और जकड़न कोकम करने में मदद करेगा। दवाएं सूजन और सूजन को नियंत्रित करने में मदद करेंगी। दवाओं परनिर्भरता कम करने के लिए फिजियोथेरेपी एक बढ़िया विकल्प है।

अधिकांश रोगियों के लिए संकेतों और जटिलताओं को उचित उपचार योजना के माध्यम से प्रबंधित या कम किया जा सकता है। अगर आप उपरोक्त सूचीबद्ध लक्षणों में से किसी का अनुभव करते हैं यास्थिति के कारण बांझपन के मुद्दोंका सामना कर रहे हैं, तो तुरंत डॉक्टर से बात करने की सलाह दीजाती है।