logo
History: हिरोशिमा का इतिहास बहुत ही डरावना है, जिसे जानकर आपकी रूह कांप जाएगी
 

ठीक 76 साल पहले, 6 अगस्त, 1945 को, संयुक्त राज्य अमेरिका ने जापानी शहर हिरोशिमा पर परमाणु हमला किया था। तीन दिन बाद, जापानी शहर नागासाकी पर दूसरा परमाणु बम गिराया गया। दोनों शहर लगभग पूरी तरह से नष्ट हो गए थे। 2 लाख से ज्यादा लोगों की जान चली गई और जो बच गए, उनकी जिंदगी नर्क से भी बदतर हो गई। तो आइए जानते हैं दुनिया की अब तक की सबसे बड़ी त्रासदी के बारे में...

1945 में, द्वितीय विश्व युद्ध एक निर्णायक चरण में पहुंच रहा था। मित्र राष्ट्रों की जीत लगभग निश्चित थी। जर्मनी ने आत्मसमर्पण कर दिया और यह केवल जापान था जो मित्र राष्ट्रों के साथ प्रतिस्पर्धा कर रहा था। जुलाई 1945 में, अमेरिकी राष्ट्रपति हैरी ट्रूमैन, ब्रिटिश प्रधान मंत्री विंस्टन चर्चिल और सोवियत संघ के नेता जोसेफ स्टालिन ने जर्मन शहर पॉट्सडैम में मुलाकात की। यहां तय हुआ कि अगर जापान बिना शर्त आत्मसमर्पण नहीं करता है तो उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जानी चाहिए।

हिरोशिमा में 1.40 मिलियन लोगों की जान गई: 6 अगस्त 1945 को सुबह करीब 8 बजे हिरोशिमा पर एक शक्तिशाली परमाणु बम से हमला किया गया था। हमला इतना शक्तिशाली था कि 1.40 लाख से ज्यादा लोगों की जान चली गई। बम धमाकों के बाद एक मिनट के भीतर हिरोशिमा शहर का 80 फीसदी हिस्सा जल कर राख हो गया। तबाही यहीं नहीं थमी। जिसके बाद परमाणु विकिरण से संबंधित बीमारियों के कारण हजारों लोगों की मौत हो गई। एक अध्ययन से पता चला है कि बम गिरने की जगह के 29 किलोमीटर क्षेत्र में काली बारिश हुई। इससे मौतों में इजाफा हुआ और इस काली बारिश ने अपने संपर्क में आने वाली हर चीज को भी दूषित कर दिया।

नागासाकी में लगभग 70,000 लोग मारे गए थे: 9 अगस्त को नागासाकी में अमेरिका के दूसरे परमाणु बम से हमले से पहले ही जापान हमले से उबर सका था। तीन दिनों के भीतर, इन दो हमलों ने जापान को पूरी तरह से नष्ट कर दिया। अभी तक मौतों की सही संख्या का पता नहीं चल पाया है। कहा जाता है कि हिरोशिमा में 1.40 लाख और नागासाकी में करीब 70 हजार लोगों की मौत हुई थी। साथ ही हजारों लोग घायल हो गए। यह त्रासदी आज भी जापान के लोगों के बीच मौजूद है।