logo
International Tiger Day 2022: विश्व बाघ दिवस का इतिहास क्या है?
 

अंतर्राष्ट्रीय बाघ दिवस आज पूरे विश्व में मनाया जा रहा है यानि 29 जुलाई को बाघ एक शाही और शिकार करने वाला जानवर है। पारिस्थितिकी तंत्र के स्वास्थ्य और विविधता को बनाए रखने में बाघ महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। लेकिन दुर्भाग्य से बाघ उन प्रजातियों में से एक है जो विलुप्त होने के कगार पर पहुंच गई है। वनों का सफाया और पेड़ों की कटाई भी बाघों के विलुप्त होने का प्रमुख कारण है। बाघों को विलुप्त होने से बचाना और बाघ संरक्षण के प्रति जागरूकता फैलाना। अंतर्राष्ट्रीय बाघ दिवस या वैश्विक बाघ दिवस भी हर साल 29 जुलाई को मनाया जाता है।

भारत में वैश्विक बाघों की आबादी का 70% है: वैश्विक बाघ दिवस भारत के लिए अधिक खास है क्योंकि वैश्विक बाघों की 70% आबादी भारत में पाई जाती है। दुनिया में सिर्फ 13 देश ऐसे हैं जहां बाघ पाए जाते हैं, जिनमें से 70 फीसदी सिर्फ भारत में हैं। टाइगर रिजर्व और पर्यावरण विभाग के प्रयासों से, भारत ने 2022 के लक्ष्य से पहले बाघों की आबादी को सफलतापूर्वक दोगुना कर दिया है। 2010 में भारत में 1,700 बाघ थे। 2018 की जनगणना के अनुसार, देश में बाघों की संख्या 2967 तक पहुंच गई थी। भारत में 18 राज्यों में 51 बाघ अभयारण्य हैं। विश्व वन्यजीव कोष के अनुसार, वर्तमान में दुनिया भर में 3,900 बाघ हैं।

बाघ दिवस का इतिहास: बता दें कि 2010 से हर साल 29 जुलाई को अंतर्राष्ट्रीय बाघ दिवस मनाया जा रहा है। बाघ शिखर सम्मेलन का आयोजन 29 जुलाई 2010 को रूस के सेंट पीटर्सबर्ग में भी किया जाता है। इस आयोजन में कई देशों ने भाग लिया और हस्ताक्षर किए। टाइगर समिट में समझौता वैश्विक स्तर पर बाघों की घटती आबादी के बारे में जागरूकता बढ़ाने और बाघों की सुरक्षा के लिए समझौते पर हस्ताक्षर किए गए थे। इसके साथ ही इस कार्यक्रम में भाग लेने वाले देशों ने फैसला किया कि बाघों की आबादी वाले देश वर्ष 2022 तक बाघों की आबादी को दोगुना कर देंगे।