logo
IT की नौकरी छोड़कर गधा पालने लगा युवक, आमदनी जानकर उड़ जाएंगे आपके होश
 

आप सभी ने आज तक कई ऐसे लोगों के बारे में पढ़ा होगा जो अपनी नौकरी छोड़कर दूसरे काम से पैसा कमाते हैं। अब आज हम आपको एक ऐसे युवक के बारे में बताने जा रहे हैं जो नौकरी छोड़कर गधों को पालने लगा। आपको शायद यकीन ना हो लेकिन ये सच है।  जी हां, ये युवक कर्नाटक के रहने वाले हैं और इनका नाम श्रीनिवास गौड़ा है। 42 साल के श्रीनिवास गौड़ा ने एक अनोखा काम करके देशभर में सुर्खियां बटोरी हैं।  दरअसल, 8 जून को वह दक्षिण कन्नड़ जिले के एक गांव में गया और गधों को पालने के लिए एक खेत खोला। दरअसल, कर्नाटक (कर्नाटक का पहला गधा फार्म) में यह गधों को पालने वाला पहला खेत है, जबकि देश में यह दूसरा है।

gg

हालांकि, पहले केरल के एर्नाकुलम जिले में एक गधा फार्म खोला गया था और श्रीनिवास गौड़ा ने कम रेटिंग वाले गधों के साथ एक लाभदायक व्यवसाय शुरू किया है। प्राप्त जानकारी के अनुसार, श्रीवास गौड़ा, जिन्होंने स्नातक तक पढ़ाई की थी, पहले एक सॉफ्टवेयर कंपनी में काम करते थे। वहीं नौकरी छोड़ने के बाद साल 2020 में उन्होंने इरा गांव में करीब 2.3 एकड़ के प्लाट में गधों को पालना शुरू कर दिया. हालांकि इससे पहले वे यहां खेती करते थे और कुछ और जानवर रखते थे। दरअसल, यहां 20 गधों को खरगोशों, मुर्गियों और मुर्गियों के साथ लाया गया था। उनका कहना है कि गधों को खोजने में भी दिक्कत होती थी क्योंकि अब वे किसी काम के नहीं हैं। साथ ही लोगों ने उनके काम का मजाक भी उड़ाया क्योंकि उन्हें नहीं पता था कि गधे के दूध में कितने गुण होते हैं।
 ff
आपको बता दें कि श्रीनिवास गौड़ा के अनुसार गधे का दूध स्वादिष्ट, महंगा और औषधीय गुणों से भरपूर होता है। अब वे इसे पैक करके बेचने जा रहे हैं। जी हां और आपको यह जानकर भी हैरानी होगी कि 30 मिलीलीटर गधे का दूध 150 रुपये में बिकता है। गौड़ा इसके पैकेट बनाकर मॉल, दुकानों और सुपरमार्केट में सप्लाई करेंगे। इसका उपयोग सौंदर्य उत्पादों में भी किया जाता है, इसलिए वे इसे सीधे बेचने जा रहे हैं। पीटीआई की रिपोर्ट के मुताबिक उसके पास 17 लाख रुपये के ऑर्डर पहले ही आ चुके हैं।  सोचिए, एक ऐसे जानवर की कीमत कितनी है जिसे लोग किसी काम का नहीं समझते।