logo
Rochak News : महिला ने 23 लाख देकर करवाया ब्रेस्ट इम्प्लांट, लेकिन फिर हुआ कुछ ऐसा की उलझ गया मामला !
 

आज के समय में पूरी दुनिया में ब्रेस्ट इम्प्लांट सर्जरी का चलन शुरू हो गया है और यह एक चलन बन गया है। आपको बता दें कि ब्रेस्ट इम्प्लांट को मेडिकल भाषा में मैमोप्लास्टी ऑगमेंटेशन या ब्रेस्ट ऑग्मेंटेशन कहा जाता है और इस सर्जरी के दौरान ब्रेस्ट में सिलिकॉन इम्प्लांट किया जाता है। हालांकि, 98 प्रतिशत तक सर्जरी सफल होती है। केवल एक या दो प्रतिशत मामलों में ही कॉम्प्लेक्स देखे जाते हैं। सामने आ रहे शोध के मुताबिक, अमेरिका में हर 1,000 महिलाओं में से 8.08 महिलाओं का ब्रेस्ट इम्प्लांट हो रहा है। जी हाँ और हाल ही में एक ऐसा मामला सामने आया है जिसमें एक महिला ने 35 साल की उम्र में दूसरी गर्भावस्था के बाद ब्रेस्ट इम्प्लांट करवाया था लेकिन उसकी हालत ऐसी हो गई कि उसने इम्प्लांट हटवा दिया और अब वह अच्छा महसूस कर रही है. आइए आपको बताते हैं कि सिलिकॉन इम्प्लांट करवाने की वजह क्या थी।

कौन है ये महिला- जी दरअसल हम जिस महिला की बात कर रहे हैं वह 35 साल की उम्र में ब्रेस्ट इम्प्लांट करवा रही एक महिला है और उसका नाम डार्सी डेविस-अलसॉप है, जो यूएसए की रहने वाली है। 35 साल की उम्र में उन्होंने फैसला किया कि उन्हें ब्रेस्ट इम्प्लांट करवाना है। दरअसल, दूसरी प्रेग्नेंसी के बाद उनके ब्रेस्ट का साइज सामान्य से काफी कम हो गया था और इसी को देखते हुए उन्होंने ये फैसला लिया था।. बताया गया है कि डार्सी की करीब तीन सर्जरी हुई और नौ साल तक सेलाइन इम्प्लांट और 3 साल तक सिलिकॉन इम्प्लांट रखने के बाद उन्होंने कुल 13 साल के बाद ब्रेस्ट इम्प्लांट को हटा दिया।

उसकी तीन सर्जरी में लगभग 2.3 मिलियन ($ 30,000) का खर्च आया। डार्सी डेविस का कहना है कि उनकी तीन ब्रेस्ट सर्जरी हो चुकी हैं। सबसे पहले उसे सेलाइन इम्प्लांट करवाया गया, जिसमें सेलाइन के अंदर खारा पानी भरा जाता है। इसके बाद नौ साल बाद उन्होंने सेलाइन को 210 सीसी सिलिकॉन से रिप्लेस किया। फिर 3-4 साल बाद उन्होंने सर्जरी से सिलिकॉन इम्प्लांट भी हटवा लिया। वहीं, डार्सी डेविस के मुताबिक ब्रेस्ट इम्प्लांट के बाद उनके जोड़ों में दर्द, अत्यधिक थकान और तेज सिरदर्द होने लगा।

हालाँकि, वह यह नहीं सोचना चाहती थी कि उसने जानबूझकर अपने शरीर में जहर डाला था जो उसके स्वास्थ्य को नुकसान पहुँचा रहा था। इतना सब होने के बाद उन्होंने ब्रेस्ट इम्प्लांटेशन से होने वाली बीमारियों के बारे में शोध करना शुरू किया। ऐसे में उन्हें शरीर में करीब 15 साइड इफेक्ट नजर आ रहे थे और इसके बाद उन्होंने ब्रेस्ट से सिलिकोन निकलवाया।