logo
Tattoo On Body : गुस्सा आने पर अजीबो-गरीब टैटू बनवाती है ये लड़की, दर्द से
 

आज हम आपको भोपाल की एक ऐसी लड़की के बारे में बताने जा रहे हैं जो गुस्से में आकर अपने शरीर का टैटू गुदवा लेती है। आपको शायद यकीन ना हो लेकिन ये सच है. दरअसल हम जिस लड़की की बात कर रहे हैं वह 27 साल की लड़की है और जब भी उसे गुस्सा आता है तो वह अपने गुस्से से छुटकारा पाने के लिए अपने शरीर पर टैटू बनवा लेती है। मिली जानकारी के मुताबिक लड़की पुराने शहर की रहने वाली है और गुस्से में टैटू बनवाने पहुंच जाती है.

बताया जा रहा है कि ढाई-तीन साल से उनके व्यवहार में बदलाव आया है, लेकिन 6 महीने से उन्हें टैटू बनवाने का जुनून सवार हो गया है। लड़की ने 6 महीने की अवधि में अपने हाथ, पैर और शरीर के अन्य हिस्सों पर 70 टैटू गुदवाए हैं और उसके मूडी परिवार के सदस्य उसे एक मनोचिकित्सक को दिखा रहे हैं। मिली जानकारी के अनुसार बच्ची का इलाज कर रहे मनोचिकित्सक डॉ. सत्यकांत त्रिवेदी का कहना है कि तनाव होने पर वह अपने शरीर पर स्थायी टैटू बनवाती थी. वहीं, काउंसलिंग के दौरान पता चला कि टैटू से होने वाला दर्द उसे अपने जैसा महसूस कराता है. जी हाँ और दूसरी तरफ खुद लड़की ने भी माना है कि टैटू बनवाने की उसकी आदत उसकी सेहत के लिए अच्छी नहीं है, क्योंकि वह आवेग में आकर ऐसा करती है. हालांकि इस गुस्से के बाद वह टैटू बनवाने के क्रेज से बाहर आना चाहती हैं।
 
इस मामले में डॉ. सत्यकांत त्रिवेदी ने बताया कि ''लड़की अपने शरीर पर अजीबोगरीब कला बनाती है. कहीं पिस्टल, कहीं सांप, जंजीर, कहीं मकड़ी. वह टैटू डिजाइन भी बनाती है. हर बार उसके ऊपर एक नया टैटू नजर आता है. शरीर गुस्से में है। सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि वह अपने शरीर पर एक स्थायी टैटू बनवा रही है।" आगे डॉ. त्रिवेदी ने कहा कि "हालांकि मानव सभ्यता में उनके शरीर पर टैटू का टैटू हजारों वर्षों से है। इसका उद्देश्य समय के साथ बहुत बदल गया है और समाज में बदलाव की गवाह रही है। पहले, बुरी आत्माएं , कैदियों, अपराधियों को गोद दिया जाता था, लेकिन आज के समय में यह एक स्टेटस सिंबल बन गया है।हालांकि मनोचिकित्सकों का मानना ​​है कि कई मानसिक अवस्थाओं में लोग टैटू भी बनवाते हैं।