logo

Tea and coffee dependency: सर्दी में कॉफी या चाय की क्रेविंग बढ़ गई है तो सतर्क हो जाएं, खतरनाक एनीमिया के हो सकते हैं शिकार

 

 सर्दियों में चाय और कॉफी का अधिक सेवन डिहाइड्रेशन की समस्या को बढ़ा सकता है। इसके अलावा पेट संबंधित परेशानी भी हो सकती है। चाय और कॉफी का अधिक सेवन आंतों में आर्सेनिक के अवशोषण को रोकता है। जिससे व्यक्ति एनीमिया का शिकार भी हो सकता है। यानी शरीर में हीमोग्लोबिन की कमी हो सकती है।

 tea, चाय या कॉफी: बेहतर स्वास्थ्य के लिए क्या पीना है बेहतर, जानें -  lifestyle a cup of coffee or tea which drink is better - Navbharat Times
चाय और कॉफी में पॉलीफेनोल केमिकल होता है। पॉलीफेनोल आयरन के समान यौगिक है। पॉलीफेनोल्स अपने एंटीऑक्सीडेंट गुणों के लिए जाने जाते हैं। लेकिन पॉलीफेनोल्स आयरन को अपने साथ बांध लेते हैं। इसका मतलब यह है कि जब भोजन से आयरन आंत में अवशोषित हो जाता है, अगर कॉफी या चाय का सेवन किया जाता है, तो इसमें मौजूद पॉलीफेनोल्स आयरन से चिपक जाते हैं और आयरन के संश्लेषण को रोकते हैं। यही वजह है कि चाय और कॉफी का अधिक सेवन सर्दियों में आयरन के अवशोषण को रोकता है। इसी वजह से लोगों को सर्दियों में ज्यादा चाय और कॉफी पीने की सलाह नहीं दी जाती है।

 tea, चाय या कॉफी: बेहतर स्वास्थ्य के लिए क्या पीना है बेहतर, जानें -  lifestyle a cup of coffee or tea which drink is better - Navbharat Times
एनीमिया तनाव और चिंता की ओर ले जाता है। एक कप चाय में 11 से 61 मिलीग्राम कैफीन होता है। यही कारण है कि यह चिंता की अवधि पैदा कर सकता है। इसके साथ ही चाय या कॉफी का अधिक सेवन भी सिरदर्द का कारण बन सकता है। अध्ययनों के अनुसार, कैफीन नींद के हार्मोन मेलाटोनिन के उत्पादन को भी रोकता है, जो नींद को भी प्रभावित कर सकता है।