logo
Utility News: टनल पार्किंग शुरू करने वाला भारत का पहला राज्य बनेगा ये प्रदेश
 

देहरादून: पार्किंग की समस्या से निजात पाने वाला उत्तराखंड देश का पहला राज्य बनने जा रहा है। टनल पार्किंग के लिए प्रदेश में चार क्रियाशील संस्थान हैं, लेकिन इसकी पर्यावरणीय चुनौतियां भी कम नहीं होंगी। पर्यावरणविदों ने इसे महाविनाश का मार्ग बताया है। पहाड़ियों में पार्किंग की समस्या से निजात के लिए राज्य सरकार टनल पार्किंग शुरू कर रही है. यह पार्किंग अभी देश में कहीं नहीं है।

वही दावा है कि इस तरह का प्रयोग करने वाला उत्तराखंड देश का पहला राज्य होगा। राज्य भर में कुल लगभग 180 पार्किंग स्थल चिन्हित किए गए हैं, जिनमें से 12 टनल पार्किंग स्थल पहले चरण में टिहरी और पौड़ी जिलों में चिन्हित किए गए हैं। कैबिनेट ने एनएचआईडीसीएल के अलावा अब टीएचडीसी, यूजेवीएनएल और आरवीएनएल को टनल पार्किंग के निर्माण के लिए कार्यात्मक एजेंसी बना दिया है।

आरवीएनएल पहले से ही पहाड़ में ऋषिकेश-कर्णप्रयाग रेलवे लाइन पर काम कर रहा है। आरवीएनएल ने कई बड़ी सुरंगें भी बनाई हैं। वहीं, यूजेवीएनएल और टीएचडीसी ने जलविद्युत परियोजनाओं के लिए सुरंगों का निर्माण किया है। सरकार का कहना है कि इससे निश्चित तौर पर पार्किंग की बड़ी समस्या का समाधान हो जाएगा। टनल पार्किंग के इस सपने को धरातल पर उतारने में सरकार के लिए कई चुनौतियां भी हो सकती हैं। इनमें से पहली चुनौती पर्यावरण मंजूरी है। केंद्रीय वन पर्यावरण मंत्रालय से अनुमति मिलने के बाद ही काम शुरू हो सकेगा। इसी तरह की अनुमति के कारण राज्य में कई जलविद्युत परियोजनाएं अटकी हुई हैं। वहीं दूसरी ओर इन सुरंगों के निर्माण से उत्पन्न मलबा भी एक बड़ी चुनौती बनकर सामने आ सकता है। हालांकि सरकार का तर्क है कि सुरंगों का निर्माण सभी नियमों का पालन करते हुए किया जाएगा।