logo
अगला कोरोना वायरस आ सकता है बंदरो और चूहों से ,स्टडी में हुआ चौंकाने वाला खुलासा
 

 पिछले 2 सालों से पूरी दुनिया को प्रभावित करने वाले कोरोना वायरस का असर अब धीरे-धीरे कमी हो ही रहा था कि एक नई चेतावनी ने सभी को सकते में ला दिया। 

io

 अमेरिका की प्रिंसटन यूनिवर्सिटी और ब्राजील की फेडरल यूनिवर्सिटी ऑफ अमेजोन्स  की स्टडीज  कि चूहा और बंदर की प्रजाति के जीवों से अगला कोरोना वायरस फैल सकता है न्यूजर्सी के वरिष्ठ यूनिवर्सिटी रिसर्च मॉलिक्यूलर बायोलॉजी सीन किंग और कंप्यूटर साइंटिस्ट मोना सिंह ने कई स्तनपाई प्रजातियों का जीनोमिक विश्लेषण किया है विशेष रूप से उन जानवरो  स्टडी की गई है जो सार्स से वायरस का आसानी से ग्रहण कर लेते हैं। 

io

उन्होंने पाया कि अतीत में चूहों की प्रजाति है बार-बार सार्स  वायरस के संपर्क में आई जिससे उनमें वायरस प्रतिरोधक का एक निश्चित स्तर विकसित होने की संभावना पैदा हुई है इस स्टडी को पीएलओएस कंप्यूटेशनल बायोलॉजी जनरल में प्रकाशित किया गया है इस रिसर्च में लिखा है कि हमें स्टडी से पता चलता है कि चूहों को वंशानुगत तौर पर सार्स जैसे कोरोना वायरस के साथ बार-बार संक्रमित होते हुए देखा गया है। 

io

वहीं ब्राजील के मानस स्थित फेडरल यूनिवर्सिटी ऑफ अमेजॉनरिसर्चर्स  ने आशंका जताई है कि इस बार महामारी ब्राजील की अमेजन जंगलों में मौजूद बैक्टीरिया और वायरस से फैल सकती है इसके वाहक चूहे और बंदर हो सकते हैं यूनिवर्सिटी के बायोलॉजिस्ट और उनकी टीम को हाल ही में कूलर में 3  बंदरों की सड़ी हुई लाश मिली किसी ने कूलर  की बिजली सप्लाई बंद कर दी थी इसके बाद बंदरों के सब अंदर ही छोड़ गए। 

io

बायोजोलिस्ट और उनकी टीम ने बंदरों से सैंपल लिए उन्होंने बंदरों के सैंपल से पैरासिटिक वोर्म्स वायरस और अन्य संक्रामक एजेंट्स की खोज की बायोलॉजिस्ट ने बताया कि जिस तरह से इंसान जंगलों का अतिक्रमण कर रहे हैं ऐसे में वहां रहने वाले जीवों में मौजूद वायरस, बैक्टीरिया और पैथोजेन्स इंसानों में संक्रमण फैला रहे हैं।