logo

Shiv Puja ke Niyam: सोमवार के दिन भगवान शिव की पूजा में न करें इन चीजों का प्रयोग, जान लें पूजा के नियम

 

शिव भक्तों के लिए श्रावण मास के पर्व प्रदोष व्रत और महाशिवरात्रि का विशेष महत्व है। हर साल फागण मास की चतुर्दशी तिथि को महाशिवरात्रि का पर्व मनाया जाता है। यूं तो शिवरात्रि हर महीने कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि को पड़ती है, लेकिन फागन मास की शिवरात्रि को महाशिवरात्रि के रूप में मनाया जाता है। मान्यता है कि इसी दिन भगवान शिव और माता पार्वती का विवाह हुआ था। इस बार महाशिवरात्रि 18 फरवरी को मनाई जाएगी। महाशिवरात्रि का व्रत रखकर भगवान शिव का जलाभिषेक या रुद्राभिषेक किया जाता है।

 सोमवार के दिन करें भगवान शिव के 11 रुद्र रुपों की पूजा, सभी बाधाओं से होंगे  मुक्त | Sanmarg
उनके अलावा भगवान शिव की प्रिय वस्तु पूजा सामग्री के रूप में शिवलिंग पर चढ़ाई जाती है, लेकिन कुछ ऐसी चीजें भी हैं जिनका उपयोग आप सामान्य दिनों की पूजा में करते हैं, लेकिन भगवान शिव को कभी भी नहीं चढ़ाना चाहिए। इस वस्तु को चढ़ाना शास्त्रों में वर्जित माना गया है।

भगवान शिव की पूजा करने समय महिलाओं को नहीं करना चाहिए ऐसा, नहीं तो... -  Women should not do this while worshiping Lord Shiva, otherwise... |  Dailynews

तुलसी का पौधा और इसके उपयोग अत्यधिक पूजनीय और पवित्र माने जाते हैं, लेकिन शिवजी पूजा में तुलसी के पत्तों का प्रयोग वर्जित है। पौराणिक कथा के अनुसार, जब तुलसी वृंदा थी, तब उसके असुर पति जलंधर को भगवान शिव ने मार डाला था। इसलिए भगवान शिव की पूजा में कभी भी तुलसी के पत्तों का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए।