logo
महिलाओ की कुंडली में इन ग्रहो से बदल सकता है सब कुछ
 

मान्यता है कि हस्तरेखा में प्रेडिक्शन के दौरान महिलाओं को उल्टा हाथ देखा जाता है उसी तरह कुंडली देखना का तरीका भी अलग होता है क्योंकि महिलाओं की कुंडली अनेक विभिन्नताएं होती है।

महिलाओ की कुंडली में इन ग्रहो से बदल सकता है सब कुछ

महिलाओं की कुंडली में नौवां स्थान या भाव से पिता और सातवा स्थान या भाव से पति की स्थिति का भान किया जाता है चौथे भाव से गर्भ धारण क्षमता ,सुख-दुख समाज में मान सम्मान ,अपमान आदि का फल निकाला जाता है चंद्र महिलाओं के मन पर अधिक प्रभाव डालता है अतः विष दोष युक्त चंद्र क्षीणबल होकर पाप पीड़ित होकर महिलाओं को अपमानित होना पड़ता है।

महिलाओ की कुंडली में इन ग्रहो से बदल सकता है सब कुछ

यह संतान पैदा करने की क्षमता को भी नष्ट करता है वही चंद्र के बाद मंगल का सबसे ज्यादा प्रभाव रहता है जो मासिक धर्म के कारक हैं इसके अशुभ स्थिति में मासिक धर्म अनियमितता रहती है और ऑपरेशन होते हैं।

महिलाओ की कुंडली में इन ग्रहो से बदल सकता है सब कुछ

वहीं अगर महिला अपने गुरु को बलवान रखती है तो उसके लिए कोई भी दोष मायने नहीं रखता है अतः चंद्र, मंगल ,शुक्र की स्त्री के जीवन को अत्यधिक प्रभावित करते हैं ऐसी महिलाओं को इन घरों के उपाय के लिए चांदी पहनने चाहिए और एकादश या प्रदोष के व्रत रखने चाहिए आंखों में काला सुरमा भी लगाना चाहिए।