logo
पीएम नरेंद्र मोदी ने तीनो कृषि कानून वापस लेने की घोषणा ,बोले दिए के प्रकाश जैसा सत्य कुछ किसान नहीं समझ पाए
 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को देश के नाम संबोधन में बहुत बड़ी घोषणा करते हुए तीनों कृषि का नाम वापस ले लिए। 

ui

 गुरु पर्व के मौके पर देश को संबोधित कर रहे पीएम ने कृषि कानूनों को वापस लिए जाने का फैसला सुनाया यह घोषणा तब हुयी जब कानूनों के खिलाफ देश के किसानों का एक समूह पिछले 1 साल से आंदोलन कर रहा है दिल्ली के बॉर्डर से लेकर पंजाब ,हरियाणा, उत्तर प्रदेश के कई हिस्सों में पिछले 1 साल में कई स्तर और चरणों में किसानों का आंदोलन देखा गया। 

io

पीएम ने आज अपने संबोधन में कहा कि हम तीन नए कानून लाए थे मकसद छोटे किसानों को और ताकत मिले वर्षों से इसकी मांग हो रही थी पहले भी कई सरकारों ने इन पर मंथन किया इस बार भी संसद में चर्चा हुई मंथन हुआ और यह कानून लाए गए देश के कोने कोने में कोटि-कोटि किसानों ने अनेक किसान संगठनों ने इसका समर्थन किया मैं आज भी उन सभी का बहुत आभारी और धन्यवाद करना चाहता हूं। 

io

उन्होंने कहा कि कोशिशों के बावजूद भी हम कुछ किसानों को नहीं समझा पाए भले ही किसानों का एक वर्ग ही विरोध कर रहा था हम उन्हें अन्य माध्यमों से समझाते रहे बातचीत होती रही हमने किसानों की बातों को समझने में भी कोई कसर नहीं छोड़ी हमने 2 साल तक नए कानूनों को सस्पेंड करने की बात कि आज देशवासियों से क्षमा मांगते हुए पवित्र ह्रदय से कहना चाहता हूं कि शायद हमारी तपस्या में कोई कमी रह गई होगी जिसकी वजह से दिए के प्रकाश जैसा  सत्य कुछ किसान भाइयों को हमने मिस नहीं समझा पाए हम ने इन तीन कृषि कानूनों को वापस लेने का फैसला किया।