logo
Ind vs WI: टीम इंडिया के पास इतिहास रचने का मौका, बस आखिरी मैच में करना होगा ये कमाल
 

नई दिल्ली: भारतीय क्रिकेट टीम ने पोर्ट ऑफ स्पेन में खेले गए दूसरे वनडे मैच में वेस्टइंडीज को दो रन से हराकर सीरीज में 2-0 की अजेय बढ़त बना ली है। अब टीम इंडिया 27 जुलाई (बुधवार) को तीसरा वनडे जीतकर वेस्टइंडीज की टीम का डेक साफ करना चाहेगी। वैसे भी शिखर धवन की अगुवाई वाली टीम इंडिया अगर तीसरा वनडे मैच जीत जाती है तो वह एक बड़ा रिकॉर्ड कायम कर देगी। 

दरअसल, इतिहास पर नजर डालें तो टीम इंडिया अपनी ही धरती पर वेस्टइंडीज को वनडे सीरीज में क्लीन स्वीप नहीं कर पाई है। ऐसे में वे तीसरा वनडे जीतते ही इतिहास रच देंगे।  इस दौरे से पहले भारत और वेस्टइंडीज के बीच कैरेबियाई सरजमीं पर 9 वनडे सीरीज खेली जा चुकी हैं, जिसमें वेस्टइंडीज ने चार सीरीज जीती हैं, जबकि पांच सीरीज भारत के नाम रही हैं। इस दौरान टीम इंडिया का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन 2017 में रहा, जब उसने पांच मैचों की सीरीज 3-1 से जीती। टीम इंडिया पहली बार 1983 में वनडे सीरीज खेलने वेस्टइंडीज पहुंची थी। यानी 39 साल से भारतीय टीम वेस्टइंडीज को वनडे सीरीज में अपनी सरजमीं पर क्लीन स्वीप करने में नाकाम रही है।

वेस्टइंडीज (भारत) में एकदिवसीय श्रृंखला
- 1983 में वेस्टइंडीज 2-1 से जीता
- 1988-89 में वेस्टइंडीज ने 5-0 से जीत दर्ज की
- 1996-97 में वेस्टइंडीज ने 3-1 से जीत दर्ज की
- 2002 में भारत 2-1 से जीता
- 2006 में वेस्टइंडीज ने 4-1 से जीत हासिल की
- 2009 में भारत 2-1 से जीता
- 2011 में भारत ने 3-2 . ​​जीता
- 2017 में भारत ने 3-1 से जीत हासिल की
- 2019 में भारत 2-0 से जीता
- 2022 में भारत 2-0 से आगे

वहीं, मौजूदा वनडे सीरीज जीतकर भारत ने वेस्टइंडीज के खिलाफ 16 साल तक जीत का सिलसिला बरकरार रखा है। दरअसल, 2006 के बाद से टीम इंडिया ने वेस्टइंडीज के खिलाफ एक भी सीरीज नहीं हारी है, 2006 में वेस्टइंडीज ने घर में आयोजित पांच मैचों की सीरीज 4-1 से जीती थी। 2006 से अब तक दोनों टीमों के बीच कुल 12 द्विपक्षीय सीरीज खेली जा चुकी हैं, जिसमें टीम इंडिया नाबाद रही है. इस दौरान भारत ने कुल पांच बार वेस्टइंडीज का दौरा किया है, जबकि वेस्टइंडीज की टीम सात बार वनडे सीरीज खेलने भारत आई है। अब देखना यह होगा कि क्या भारत इस बार अपने ही घर में वेस्टइंडीज को क्लीन स्वीप कर पाता है। क्योंकि, अगर ऐसा होता है तो शिखर धवन की कप्तानी में टीम इंडिया के लिए यह बड़ी कामयाबी होगी।