logo
Virat Kohli vs BCCI: विराट कोहली के ‘समर्थन’ वाले बयान पर बोले BCCI अधिकारी, “सभी ने उन्हें सपोर्ट किया, पता नहीं वो किस बारे में कह रहे हैं”
 

नई दिल्ली: टीम इंडिया के पूर्व कप्तान विराट कोहली इन दिनों एशिया कप 2022 सीजन में खेलते नजर आ रहे हैं. यहां कोहली ने अपने पहले तीन मैचों में अच्छा प्रदर्शन किया है और काफी हद तक अपनी खोई लय हासिल करने में कामयाब रहे हैं. लेकिन इसी बीच कोहली के एक बयान पर बवाल हो गया है. दरअसल, कोहली ने आखिरी मैच पाकिस्तान के खिलाफ रविवार को ही खेला था, जिसमें उन्होंने 44 गेंदों में 60 रन बनाए थे. कोहली का यह लगातार दूसरा अर्धशतक है।

मैच के बाद कोहली इमोशनल हो गए और कहा कि जब उन्होंने टेस्ट की कप्तानी छोड़ी थी, उस वक्त महेंद्र सिंह धोनी के अलावा किसी ने उन्हें मैसेज तक नहीं किया था. अब कोहली के इस बयान पर बवाल मच गया है. कोहली के इस बयान पर पूर्व दिग्गज क्रिकेटरों समेत अधिकारी भी अपना पक्ष रख रहे हैं. इसी क्रम में बीसीसीआई के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि सभी ने कोहली का समर्थन किया। पता नहीं इस तरह क्या बोल रहा है। बीसीसीआई अधिकारी ने मीडिया से कहा कि, ''विराट को सभी का समर्थन मिला है. बीसीसीआई से लेकर उनके साथी खिलाड़ियों ने सपोर्ट किया। कोहली ने कहा है कि उन्हें सपोर्ट नहीं मिला, ये गलत है. जरूरत पड़ने पर ब्रेक दिया गया। जब उन्होंने टेस्ट कप्तानी छोड़ी, तो BCCI के अधिकारियों ने उन्हें उनके करियर के लिए शुभकामनाएं देने के लिए सोशल मीडिया का सहारा लिया। इसलिए मुझे नहीं पता कि वह और किस बारे में बात कर रहा है।''

बीसीसीआई अधिकारी ने कहा कि कोहली और बीसीसीआई में कोई अंतर नहीं है। भारतीय क्रिकेट में उनके द्वारा दिए गए योगदान के लिए हर कोई उनका सम्मान करता है। वह तीनों प्रारूपों में एक शानदार और महत्वपूर्ण खिलाड़ी हैं। उनकी फॉर्म सही समय पर वापस आ गई है। हम चाहते हैं कि वह रन बनाते रहें। यह ऑस्ट्रेलिया (टी20 वर्ल्ड कप) में टीम के लिए अच्छा होगा।

क्या कहा विराट कोहली ने?

आपको बता दें कि पाकिस्तान के खिलाफ मैच के बाद रविवार को विराट कोहली ने कहा था, 'जब मैंने टेस्ट की कप्तानी छोड़ी तो एक ही शख्स ने मुझे मैसेज किया, वो थे महेंद्र सिंह धोनी. बहुत से लोगों के पास मेरा नंबर है। कई लोग टीवी पर भी सुझाव देते हैं। लेकिन मेरे पास किसी का भी मैसेज नहीं आया जिसके पास मेरा नंबर है. जब किसी के साथ संबंध होता है और वह वास्तविक होता है, तो ऐसा लगता है। मुझे उनसे कुछ नहीं चाहिए और वे मुझसे कुछ नहीं चाहते।'