logo
कौन हैं जेरेमी लालरिनुंगा? वेटलिफ्टिंग में किया कमाल, 19 की उम्र में बनाया रिकॉर्ड
 

भारत ने राष्ट्रमंडल खेलों में दूसरा स्वर्ण और कुल मिलाकर 5वां पदक भी जीता है। भारोत्तोलक जेरेमी लालरिनुंगा ने मैच के बीच में चोटिल होने के बाद भी हार नहीं मानी और पुरुषों के 67 किग्रा वर्ग में स्वर्णिम सफलता हासिल की है। उन्होंने स्नैच में 140 किलो और क्लीन एंड जर्क में 160 किलो वजन उठाया। इस तरह उन्होंने कुल 300 KG उठाकर गोल्ड मेडल अपने नाम किया। समोआ के वेवापा एयोन (293 किग्रा) ने रजत पदक जीता। वहीं कई लोग ये जानने की कोशिश कर रहे हैं कि जेरेमी लालरिनुंगा कौन हैं तो आइए हम आपको बताते हैं...


जेरेमी लालरिननुंगा आइजोल, मिजोरम के एक भारतीय भारोत्तोलक हैं। उन्होंने ब्यूनस आयर्स में 2018 ग्रीष्मकालीन युवा ओलंपिक में भारत का प्रतिनिधित्व किया और लड़कों के 62 किग्रा भारोत्तोलन में स्वर्ण पदक जीता। इस प्रकार वह युवा ओलंपिक में स्वर्ण जीतने वाले पहले भारतीय बने। जेरेमी ने एशियाई भारोत्तोलन चैम्पियनशिप 2018 में भारत के लिए रजत पदक जीता। जेरेमी लालरिनुंगा ने राष्ट्रमंडल खेल 2022 में पुरुषों के 67 किलोग्राम वर्ग में कुल 300 किलोग्राम वजन उठाकर स्वर्ण पदक जीता।

26 अक्टूबर 2002 को आइजोल, मिजोरम में जन्मे जेरेमी भारत के सबसे होनहार युवा खिलाड़ियों में से एक हैं। उनके पिता का नाम लालमैथुवा है और वह एक पूर्व मुक्केबाज हैं। 6 साल की उम्र में ही उन्होंने अपने पिता के मार्गदर्शन में एक बॉक्सर के रूप में अपना प्रशिक्षण शुरू किया। बाद में उन्होंने भारोत्तोलन का अभ्यास करना शुरू कर दिया। उन्होंने महज 10 साल की उम्र में वजन उठाना शुरू कर दिया था। जेरेमी ने कोच विजय शर्मा से प्रशिक्षण लिया और बाद में पुणे में सेना के खेल संस्थान में प्रशिक्षण शुरू किया। 2016 में, उन्होंने राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में भाग लेना शुरू किया।